नए नोट पर अशोक चक्र और सारनाथ का चित्र गायब, भारत के गौरव की हत्या

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा आज से 500 और 1000 के नोट आठ नंवबर 2016 से बंद कर दिए है , मोदी ने कहा की ये देश में फैला काला धन नकली नोट का जाल एकदम बंद कर दिया जाएगा और यह देश के विकास के लिए एक यग्य है मोदी ने कहा यह फैसला एक गोपनीय फैसला था और अचानक लिया गया है में समझ सकता हु की इस फैसले से मेरे भारत वासी खुश होंगे।

500-rs

मोदी के इस फैसले से पुरे देश में हडकम्प मच गया है यानी जैसी योजना थी वैसा ही हो गया लोगो का ध्यान दलितों की हत्या से हट गया है , कश्मीर समस्या भूल गए है गरीबी महंगाई , बरोजगारी से भी हट गया है पुरे भारत में अफरा-तफरी का माहौल बन गया।

लेकिन ऐसा नहीं है इस नोट को बंद करने के पीछे के षड्यंत्र को भी समझ ले तो जयादा अच्छा होगा इसमें सबसे पहले उन ने रूप से अमीर लोग या छोटे मोटे रिश्वत खोर अफसर या दुकानदार उस पर इसका फर्क पढ़ेगा लेकिन ख़ास नहीं

इन नोट में सबसे खतरनाक बात यह की गई है की इसमें से देश के गौरव और लोकतंत्र को दिखाने वाले शेर के निशाँ और अशोक चक्र को हटा दिया गया है , यह अशोक चक्र और सारनाथ का चिन्ह दरसल ब्राह्मणों के आँखों की किरिकिरी हमेशा से रहा है , यही नहीं बल्कि सविंधान को भी ऐसे ही खत्म कर दिया जाएगा न्याय और शान्ति और देश के विकास के नाम पर

अशोक चक हमारे स्वर्णिम अतीत और बौध धर्म को दर्शाता है इनको खत्म करने के लिए ब्राह्मणवादी लोग रास्ते ढून्ढ रहे थे गांधी की हत्या करने वाले संघ ने गांधी को नोट पर इसलिए बनाए रखा है क्योकि गांधी ब्राह्मणवाद जातिवाद वर्णवाद , और सामन्ती परम्पराओं की रक्षा करने वाला था इसलिए जब तक गांधी रहेगा तब तक यह जातिवाद रहेगा इसलिए इसको हटाया नहीं गया .

loading...
loading...
अपनी कीमती राय ज़रूर दें, शुक्रिया! नए अपडेट पाने के लिए फेसबुक पेज ज़रूर Like करें, और अपने दोस्तों को भी दावत दें