जरूरी खर्च के लिए पुराने नोट चलने दे” – सुप्रीम कोर्ट

दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने नोटबंदी को लेकर सरकार द्वारा की गई तैयारियों के लिए उसे फटकार लगाई है । गुरुवार (15 दिसंबर) को सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि केंद्र इस बात का जवाब दे कि लोगों के बीच कैश को सामान्य तरीके से लोगों में क्यों नहीं बांटा जा पा रहा। सुप्रीम कोर्ट का इशारा उस तरफ था कि किसी-किसी के पास इतने सारे नोट बरामद हो रहे हैं और ज्यादातर लोग लाइन में लगे हुए हैं।

सरकार नए नोट की सप्लाई नहीं कर पा रही है तो खामियाजा लोग क्यों भुगतें – सुप्रीम कोर्ट

चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर, जस्टिस ए एम खनवालकर और जस्टिस डी वाई चंद्रचूड की बेंच ने कहा कि नोटबंदी की वजह लोग बड़ी परेशानी में आ गए हैं। बेंच ने कहा कि कुछ लोगों को इतना सारा पैसा मिल रहा है और कुछ लोग एक नोट के लिए भी तरस रहे हैं।

इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि रोजमर्रा की जरूरतों के लिए पुराने नोटों को फिलहाल चलने दिया जाए। सुप्रीम कोर्ट ने कहा, ‘पुराने नोटों को फिलहाल सरकारी हॉस्पिटल में चलने दिया जाना चाहिए ताकि लोग दवाई ले सकें। अगर आप लोग व्यवस्था नहीं कर पा रहे तो आम लोग क्यों परेशानी झेले ?

उसपर अटर्नी जनरल मुकल रोहतगी ने कहा कि अगर सुप्रीम कोर्ट ने पुराने नोटों को चलाने का ऑर्डर दे दिया तो काफी मात्रा में कालाधन सफेद कर लिया जाएगा। रोहतगी ने यह भी माना कि पेट्रोल पंप और रेलवे रिजर्वेशन के जरिए काफी सारा कालाधन सफेद कर लिया गया है। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट ऐसे लोगों को दोबारा मौका ना दे

अपनी कीमती राय ज़रूर दें, शुक्रिया! नए अपडेट पाने के लिए फेसबुक पेज ज़रूर Like करें, और अपने दोस्तों को भी दावत दें